Traffictail

World Best Business Opportunity in Network Marketing
laminate brands in India
IT Companies in Madurai

उत्तराखंड के पूर्व डीजीपी बीएस सिद्धू की बढ़ी मुश्किलें ,आरक्षित वन क्षेत्र में नौ बीघा जमीन कब्जाने के मामले में_12 साल बाद चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी।

उत्तराखंड के पूर्व डीजीपी बीएस सिद्धू की बढ़ी मुश्किलें ,आरक्षित वन क्षेत्र में नौ बीघा जमीन कब्जाने के मामले में_12 साल बाद चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी।

 

देहरादून ( उत्तराखंड ) प्रदेश के पूर्व डीजीपी बीएस सिद्धू को वन भूमि पर कब्जा करने के मामले में एसआईटी ने आरोपी बनाया है। पूर्व पुलिस महानिदेशक बीएस सिद्धू की मुश्किलें अब बढ़ने लगी हैं। आरक्षित वन क्षेत्र में नौ बीघा जमीन कब्जाने के मामले में 2013 में राजपुर थाने में दर्ज हुए मुकदमे में पूर्व डीजीपी को एसआईटी ने आरोपी बना लिया है।इस मामले में पूर्व डीजीपी समेत सात लोगों को आरोपी बनाया गया है।उत्तराखंड राज्य में ऐसा पहली बार होगा कि पुलिस अपने पूर्व मुखिया के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट फाइल करेगी। बीएस सिद्धू पर उनके कार्यकाल के अंतिम दिनों में भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी के आरोप लगे थे।

यह ख़बर भी पढ़िये।👉👇🙏💐

योग गुरु बाबा रामदेव की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रहीं।उत्तरखंड सरकार ने पतंजलि और दिव्य फार्मेसी के 14 उत्पादों को बनाने का लाइसेंस किया रद्द।👉👇 पढ़िये आखिर क्यों ।

एडीजी कानून व्यवस्था एपी अंशुमन के मुताबिक मामले की जांच काफी तेजी और गंभीरता से चल रही है जो लगभग अंतिम चरण में है। जल्द ही जांच पूरी कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।साल 2012 में सिद्धू के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए प्रार्थनापत्र दिए गए। सिद्धू के पुलिस का मुखिया होने के कारण कोई कार्रवाई नहीं हुई। धामी के मुख्यमंत्री बनने के बाद मामले के निस्तारण के लिए एसआईटी गठित की गई थी।

यह ख़बर भी पढ़िये।👉👇🙏💐

चलती ट्रेन में चढ़ते हुए गिरा यात्री, महिला कॉस्टेबल ने साहस दिखा बचाई जान, मौत के मुंह से कैसे बचा ये शख़्स।👉👇 देखिये सीसीटीवी मे कैद हुआ खौफनाक मंजर

एसआईटी में डीआईजी कानून व्यवस्था पी रेणुका देवी को अध्यक्ष बनाते हुए आईपीएस अफसर सर्वेश पंवार को जांच अधिकारी बनाया गया।अब मुकदमे की जांच में पूर्व डीजीपी सिद्धू समेत सात लोगों को आरोपी बना लिया गया है। इनके खिलाफ जल्द चार्जशीट दाखिल कर दी जाएगी।वन भूमि कब्जाने से जुड़े मुकदमे में पूर्व डीजीपी बीएस सिद्धू का नाम जोड़ दिया गया है। अब ‘लंबी जांच 12 साल बाद पूरी हो सकेगी। पुलिस के इतिहास में मुकदमे की यह सबसे लंबी चलने वाली जांच मानी जा रही है।

यह ख़बर भी पढ़िये।👉👇🙏💐

उत्तराखंड घूमने आया आठ लोगों का ग्रुप,नहाते समय तेज बहाव की चपेट आये युवक-युवती गंगा में डूबे, एसडीआरएफ ने चलाया सर्च अभियान। 

बताया जाता है कि पूर्व मुखिया को आरोपी बनाने में कई पुलिस अफसर कतराते रहे।साल 2012 में नाथूराम नाम के व्यक्ति ने इस प्रकरण में मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप है कि उनकी जमीन किसी व्यक्ति ने मालिक बनकर बेच दी। इस मामले में मुकदमा दर्ज होने के बाद यह केस 2013 में राजपुर थाने को ट्रांसफर किया गया।

यह ख़बर भी पढ़िये।👉👇🙏💐

कुमाऊँ के इस दवा कारोबारी के घर ईडी का छापा, अमेरिका के 50 राज्यों में फैला है नशे का कारोबार,ड्रग्स से कमाए 15 हजार करोड़ डॉलर,ईडी की छापेमारी से हड़कम्प मचा।

जानिए क्या है पूरा मामला

पूर्व डीजीपी बीएस सिद्धू ने वर्ष 2012 में मसूरी वन प्रभाग के वीरगिरवाली गांव में डेढ़ हेक्टेअर जमीन खरीदी और इस जमीन पर लगे साल के करीब 250 पेड़ काट दिए। सूचना मिलने पर प्रदेश के वन विभाग ने जांच कराई, जिसमें यह सामने आया कि ये पेड़ रिजर्व वन भूमि पर लगे थे। इस मामले में वन विभाग ने सिद्धू का चालान भी किया था। प्रकरण के उछलने के बाद बीएस सिद्धू के नाम हुई जमीन की रजिस्ट्री भी रद्द कर दी गई और सरकार से सिद्धू के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की अनुमति मांगी गयी थी। सिद्धू सितंबर 2013 से अप्रैल 2016 तक प्रदेश के पुलिस महानिदेशक रहे हैं।

यह ख़बर भी पढ़िये।👉👇🙏💐

व्यापारी नेता को रंगरेलियां मनाना पड़ा महंगा,पत्नी और ससुरालियों ने महिला मित्र के साथ नेता जी को एक फ्लैट में  धर दबोचा, हाई बोल्टेज ड्रामे से चर्चाओं का बाजार हुआ गर्म।

uttarakhandlive24
Author: uttarakhandlive24

Harrish H Mehraa

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

[democracy id="1"]

खटीमा-बाड़ पीड़ित के चेक वितरण के दौरान भाजपा और कांग्रेस में हुई भिड़ंत,भाजपा नेता की तहरीर पर कांग्रेसी नेता पर हुआ मुकदमा दर्ज,कांग्रेसियों ने दी भाजपा कार्यकर्ताओं खिलाफ दी तहरीर।

मुख्यमंत्री धामी के निर्देश पर खटीमा में आपदा पीड़ितों को  प्रशासन ने 10 हजार परिवारों को 5 करोड़ 2 लाख 50 हजार रुपए तात्कालिक सहायता राशि की वितरित,नियम विरुद्ध लिये गये चैक को लेकर प्रशासन हुआ सख्त,होगी जांच।